रामलीला मैदान से सरकार के खिलाफ अण्णा की हुंकार, 'जब तक प्राण है, अनशन खत्म नहीं होगा'

नई दिल्ली: किसानों को फ़सल के बेहतर दाम और लोकपाल के मुद्दे पर दिल्ली के रामलीला मैदान में अण्णा हजारे का रामलीला मैदान में अनिश्चितकालीन अनशन अब छठे दिन में आ गया है, मगर अभी भी अनशन के खत्म होने के आसार नहीं दिख रहे हैं. इस बीच सरकार की ओर से कई प्रतिनिधी अण्णा हजारे को मनाने की जुगत में जुट चुके हैं, मगर अभी तक कोई ठोस परिणाम सामने नहीं आए हैं. 

अनशन पर बैठे अण्णा हजारे ने कहा कि सरकार कई लोगों को बातचीत के लिए भेज रही है. अब तक जो बात हुई वह झुठी है. सरकार ने अब तक कोई ठोस बातचीत नहीं की है. उन्होंने कहा कि किसानों को फसल लागत का डेढ़ गुणा दाम देने पर सरकार राजी हो गई है, मगर इसका वितरण कैसे किया जाएगा, इसका जवाब सरकार के पास नहीं है. 

उन्होंने कहा कि हर फसल का बिक्री मूल्य निर्धारित किए जाए. अगर निर्धारित मूल्य से कम दाम मिलता है तो सरकार भरपाई करे. सरकार पर हमला बोलते हुए अण्णा ने कहा कि किसानों के लिए सरकार के पास कोई योजना नहीं है. 

साथ ही उन्होंने इस बात की वकालत की कि कृषि मूल्य आयोग को चुनाव आयोग की तरह संवैधानिक दर्ज़ा दिया जाए. किसानों के कर्ज माफ किये जाए. उन्होंने कहा कि सरकार ने लोकपाल और लोकायुक्त नियुक्ति की मांग चुनाव आयोग के पास भेजने की बात कही है. 

अनशन खत्म होने के सवाल पर अण्णा हजारे ने कहा कि जब तक प्राण है, यह अनशन खत्म नहीं होगा. भगवान की कृपा है कि अब तक ठीक हूं. मुझे विश्वास है कि जब तक मांग पूरी नहीं होगी भगवान मुझे संभालेगा.

Add Comment

Posted Comments